शील परिच्छेद

पञ्चशील

शील (पाली) अर्थ
पाणातिपाता वेरमणी-सिक्खापदं समादयामि।। हिंसा न करना
अदिन्नादाना वेरमणी- सिक्खापदं समादयामि।। चोरी न करना
कामेसु मिच्छाचारा वेरमणी- सिक्खापदं समादयामि।। व्यभिचार न करना
मुसावादा वेरमणी- सिक्खापदं समादयामि।। झूठ न बोलना
सुरा-मेरय-मज्ज-पमादठ्ठाना वेरमणी- सिक्खापदं समादयामि।। नशा न करना

अष्टशील

अष्टशील (पाली) अर्थ
पाणातिपाता वेरमणी-सिक्खापदं समादयामि।। मैं प्राणी हिंसा से विरत की शिक्षा ग्रहण करता हूँ